डॉक्टर की कैद से छुड़ाए गए भाई-बहन को बेहतर इलाज के लिए भेजा गया रांची..

Bokaro, Crime, News

बीते दिनों बोकारो के कॉपरेटिव कॉलोनी में सामने आए अमानवीय घटना में बंधक बनाकर रखे गए भाई-बहन को आज बेहतर इलाज के लिए रांची भेज दिया गया| चूंकि ये दोनों भाई-बहन अब भी बोलने में असमर्थ हैं इसलिए अब इनका इलाज रांची स्थित केंद्रीय मनोचिकित्सा केंद्र में चलेगा| ज्ञात हो कि कॉपरेटिव कॉलोनी के प्लॉट नंबर 229 के मकान मालिक भाई-बहन मंजूश्री घोष और दीपक घोष को उसी प्लॉट पर क्लिनिक चला रहे शहर के जाने-माने नेत्र विशेषज्ञ डॉ. डी.के गुप्ता ने पिछले 15 साल से बंधक बना रखा था| ऐसा प्रतित होता है कि इस अमानवीय अत्याचार से मंजूश्री और दीपक को गहरा सदमा लगा है जिससे स्वभाविक रूप से उभरना बेहद कठिन है|

संत जेवीयर्स के बोकारो ओल्ड जेवेरियन्स एसोसिएशन ने भी पीड़ित भाई-बहन की मदद के लिए 10 लाख रूपए का फंड दिया| मामले की गंभीरता को देखते हुए खुद एडीजी अलिन पाल्टा भी इस केस की कार्रवाई में बोकारो आए थे|

शहर के कई सामाजिक संगठन दोनों भाई-बहन की मदद के लिए आगे आए हैं लेकिन डॉक्टर के खिलाफ शहर के लोगों का गुस्सा अब भी शांत होने का नाम नहीं ले रही और लगातार डॉक्टर डी.के गुप्ता की गिरफ्तारी पर जोर दिया जा रहा है| लेकिन आरोपी डॉ. डी.के गुप्ता अब भी फरार चल रहे हैं|

उधर आईएमए और झासा का एक प्रतिनिधिमंडल भी पुलिस अधीक्षक कार्तिक एस से मुलाकात कर इस मामले में निष्पक्षता से जांच करने की मांग की है| वहीं एसपी का कहना है कि इसके लिए आरोपी डॉक्टर को सामने आना होगा| हालांकि पुलिस ने इस मामले में क्लिनिक संचालक मंतोष गुप्ता की पत्नी और पुत्र को गिरफ्तार कर लिया है।

आमलोगों के गुस्से के बाद भाजुयमो भी पीड़ित भाई-बहन को न्याय दिलाने के लिए सड़क पर उतरा| भाजयुमो के अध्यक्ष मयंक सिंह की अध्यक्षता में कार्यकर्ताओं ने आरोपियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की तथा जल्द से जल्द उनपर कार्रवाई करने की मांग की| आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने क्लिनिक के बाहर लगे नेम प्लेट पर कालिख पोता तथा बैनर हटाया| इसके जवाब में उल्टा मामले के आरोपी क्लिनिक संचालक मंतोष गुप्ता के भाई ने भाजयुमो कार्यकर्ताओं के ऊपर केस दर्ज करवा दिया|

देखा जाए तो इस मामले के बाद शहर के लोगों की भावनाएं भी आहत हुई है| 15 साल तक किसी को चार-दिवारी में यूं बंद रखना कहीं ना कहीं कुंठित मानसिकता को दर्शाती है| ऐसे में लोगों का गुस्सा भी लाज़मी है| इससे पहले ये जनाक्रोश विकराल रूप ले ले, इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई बेहद जरूरी है|

Leave a Reply