लॉक डाउन के पहले दिन दुकानों पर उमड़ी भीड़, लॉक डाउन का मतलब नहीं समझ रहे लोग..

Bokaro, write-up

झारखंड-बोकारो में अबतक कोई काेराेना का काेई पाॅजिटिव मरीज नहीं मिला है। एहतियात के ताैर पर सरकार ने पूरे राज्य में 31 मार्च तक लाॅकडाउन करने की घाेषणा की है। बता दें की झारखंड में लॉकडाउन की घोषणा रविवार को जनता कर्फ्यू के खत्म होने के कुछ पल बाद ही की गई, रात होने के कारण लोग घरों में ही रहे। सोमवार को सुबह ही बोकारो के बाजारों में भीड़ उमड़ पड़ी। देखते ही देखते ही सब्जी और राशन दुकानों में लोगों की लंबी कतार लग गई। लोगों को डर है कि कहीं पूरी तरह से सब बंद ना हो जाए। हालांकि सरकार व स्थानीय जिला प्रशासन बार बार इस बात को कह रहा है कि एक साथ घर से बाहर ना निकले लेकिन लोग मानने को तैयार ही नहीं है।

भीड़ की तुलना में सब्जियों की कमी पड़ गई। इससे दुकानदारों ने दो से तीन गुना तक दाम बढ़ा दिया। लोग महंगी कीमत पर सब्जियां खरीदनों को मजबूर थे। सामान्य दिनों में 25 से 30 रुपये किलो बिक रहे आलू की कीमत अचानक 40 रुपये किलो हो गया। प्याज का रेट भी बढ़ गया है। खुदरा रेट में प्याज 25 रुपये किलो बिक रहा था। सोमवार को यह 30 किलो हो गया है। धनिया ने भी जबरदस्त छलांग लगाई है। 10 रुपये में 100 ग्राम मिलने वाली धनिया 15 रुपये में बिकी। इसी तरह शिमला मिर्च, बैंगन, गाजर, मटर आदि के दाम भी बढ़ गए हैं। इन सब के बीच लोग बाजार से सीधे आलू प्याज के थोक विक्रेताओं के आढ़त में भी पहुंच गए और आलू का बोरा खरीदने की होड़ लग गई।

इधर कई लोग बोकारो की सड़कों पर लॉकडाउन में बिना किसी काम के घूमते भी नजर आये, कई मैदानों में बुजुर्गों की टोलिया ताश खेलने में मशगूल रही। बच्चे भी लॉकडाउन विभिन्न सार्वजनिक मैदानों में खेलते नजर आये। सड़कों पर बेधड़क ऑटो भी चलते दिखे, जिन्हें फिर बाद में पुलिस ने बंद कराया।

बोकारो के लोगों को यहां यह जानना बेहद जरूरी है कि पड़ोसी राज्‍यों में कोरोना वायरस का संक्रमण का केस सामने आ गया है लेकिन अपना राज्‍य अभी तक इस महामारी से बचा हुआ है। आगे भी ऐसा ही हालात रहे, इसके लिए बोकारोवासियों को चाहिए कि वे अपने घरों में रहें। खाद्य सामग्री की भविष्‍य में दिक्‍कत नहीं होगी। इन्‍हें लॉक डाउन से मुक्‍त रखा गया है। इसलिए खाद्य सामग्री को इकट्ठा करने के लिए जल्‍दबाजी न करें। घरों से बाहर बेवजह एकत्र न हों। लॉक डाउन नियम का पालन करें।

लॉक डाउन के समय लाेग अपने घरों में रहें। बहुत जरूरत के समय ही अपने घरों से निकलें। आप अभी सचेत हो जाएंगे ताे भविष्‍य में एक बड़ी विपदा से बच जाएंगे। राशन, सब्‍जी आदि सामानों की खरीदारी के लिए बाहर निकलें लेकिन इस दौरान ध्‍यान रखें कि एक जगह पांच से अधिक लोग खड़े न हों।

लॉक डाउन के दाैरान इमरजेंसी सेवाओं काे छाेड़कर राज्य सरकार के सभी कार्यालय बंद हैं। कर्मचारी और अधिकारी घराें से काम करेंगे। लाॅकडाउन के दाैरान सभी बाजार, व्यापारिक प्रतिष्ठान, दुकानें, कार्यालय, फैक्ट्री, गोदाम, साप्ताहिक हाट और टैक्सी, ऑटो, बस, ई-रिक्शा समेत सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट आदि बंद करने का आदेश है। दूध-दवा-सब्जी-राशन की दुकानें और एटीएम खुले हैं।

प्रशासन दे रही चेतावनी..
आम लोगों की अनदेखी पर पुलिस प्रशासन लगातार चेतावनी दे रही है। पुलिस लाउडस्पीकर पर अनाउंसमेंट कर लोगों को चेतावनी दे रही है। दुकानें बंद कराई जा रही। राहगीरों को सड़क से वापस भेजा जा रहा है। पुलिस प्रशासन यह हिदायत दे चुकी है की सीधा से नहीं माने तो पुलिस प्रावधानों के मुताबिक कार्रवाई भी कर सकती है।

कोरोना वायरस हेल्पलाइन नंबर
सेंट्रल हेल्पलाइन: 011- 23978046, 1075 (TOLL FREE)
झारखंड हेल्पलाइन :-104
जिला नियंत्रण कक्ष हेल्पलाइन :- *06542-223475 , 06542-242402
100

 

Leave a Reply