सुनिए जनप्रतिनिधि जी..

Bokaro, write-up

एक समय था जब बोकारो स्टील सिटी अपनी बेहतरीन मूलभूत सुविधाओं के लिए जाना जाता था लेकिन आज स्थिति बिलकुल विपरित है| बिजली-पानी की व्यवस्था तो मानो दम तोड़ चुकी है| चारों तरफ जनता परेशान है लेकिन प्रशासन, प्रबंधन और नेताओं का रवैया तो लगता है जैसे उन्होंने कुछ भी सुनने से इंकार कर रखा है| इसलिए आज सुनिए जनप्रतिनिधि में हम एक बार फिर इन मुद्दों को प्रमुखता के साथ उठा रहे हैं|

वो दौर अब भूली-बिसरी यादों की तरह हो गया है जब शहर में मुश्किल से घंटे भर के लिए बिजली जाती थी| पानी की सपलाई भी दो वक्त दी जाती थी| लेकिन धीरे-धीरे किसी ना किसी नाम पर सुविधाओं में कटौती शुरू कर दी गई| अब आलम ये है कि बिजली मुश्किल से घंटे भर टिकती है औऱ पानी तो अब एक वक्त ही आता है| गर्मी की मार ने तो तबाही मचाई ही है उसपर बिजली-पानी के संकट ने लोगों की चैन छीन ली है|

हर तरफ हर कोई परेशान है और बस यहीं गुहार लगा रहा कि जल्द से जल्द इस ओर कोई कदम उठाया जाए| ट्विटर पर आमूमन सभी बोकारोवासी इस संदर्भ में ट्वीट कर अपनी समस्या जाहिर कर रहा है| राजेंद्र सिन्हा ने ट्वीट कर बताया कि कैसे लोड-शेडिंग की वजह से दिन में करीब 10 बार 1-2 घंटे के लिए बिजली जाती है| दीपक ने ट्वीट कर कहा कि नए व्यवस्था से काफी सारी उम्मीदें थी लेकिन सारी उम्मीदें धरी की धरी रह गई|

घनश्याम राज ने शहर की चरमराती व्यवस्था को एक-एक कर रखा| उन्होंने बिजली मुद्दे के साथ-साथ शहर में बढ़ती चोरी और एटीएम में कैश की कमी का भी मुद्दा उठाया| बिजली संकट को ही लेकर संतोष पांडेय ने भी ट्वीट किया|

बिजली को लेकर शहर में हाहाकार मचा हुआ है| जनता बस यही गुहार लगा रही है कि इस बिजली संकट से उन्हें राहत दिलाई जाए और इसके लिए सभी चाहते हैं कि आप कुछ ‘सुनिए जनप्रतिनिधि जी’|

Leave a Reply