बोकारो की बेटी तान्या बनी ‘क्वीन ऑफ़ इंडिया 2019’

Pride Bokaro

राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जहां बोकारो स्टील सिटी का नाम ना हो| यहां की एक से बढ़कर एक प्रतिभाओं ने समय-समय पर अपने शहर को गौरवान्वित करने का कार्य किया है। इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए बोकारो की प्रसिद्ध शिक्षाविद नीलकमल सिन्हा की सुपुत्री तान्या सिन्हा ने ‘क्वीन ऑफ़ इंडिया 2019’ का पुरस्कार हासिल किया है| पीगासस प्राइवेट लिमिटेड की ओर से आयोजित Manappuram Miss Queen of India 2019 में तान्या ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। ये उपलब्धि हासिल कर तान्या ने अपने माता-पिता, बोकारो शहर, और पूरे झारखंड का नाम राष्ट्रीय स्तर पर रोशन किया है।

#Breaking #Bokaro A matter of Pride for Bokaro, Tanya Sinha declared Miss Queen of India of #Bokaro Manappuram Miss…

Pubblicato da Bokaro Updates su Sabato 8 giugno 2019

 

अपनी सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए तान्या ने कहा कि उन्होंने एक नए मुकाम पर जाने का सपना देखा था लेकिन सिर्फ सपने देखने से मुकाम नहीं पा सकते बल्कि उस दिशा में लगातार मेहनत करनी होती है। उन्होंने कहा कि उनके परिवार में सभी इंजीनियर, डॉक्टर हैं, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने एक अलग करियर चुना जिसमें परिवार के सभी लोगों ने, हर कदम पर साथ दिया। तान्या ने कहा कि जब तक खुद पर आत्मविश्वास नहीं होगा तब तक कोई भी सपना पूरा नहीं हो सकता। सपने पूरा होने का जज्बा खुद के भीतर होना चाहिए।

अपनी बेटी की इस कामयाबी पर तान्या की मां श्रीमती सिन्हा ने बताया कि जैसे ही तान्या के मिस क्वीन बनने की खबर मिली, उन्होंने भगवान का शुक्रिया अदा किया कि उनकी बेटी का सपना पूरा हुआ| श्रीमती सिन्हा ने अपनी खुशी बयां करते हुए कहा कि बेटी की कामयाबी की खबर पाकर वो एक पल को निःशब्द हो गयी थी। उन्होंने कहा कि इस सफलता के साथ-साथ तान्या की जिम्मेदारी और अधिक बढ़ गई है। उनके ऊपर अब अपने राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करने की जिम्मेदारी है।

बता दें कि है कि तान्या सिन्हा ने साल 2013 में सेक्टर- 6 स्थित डीएवी पब्लिक स्कूल से दसवीं की पढ़ाई पूरी की। उसके बाद जेवीएस, रांची से 12वीं की पढ़ाई पूरी कर मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से पत्रकारिता में स्नातक किया। तान्या के पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अपनी असफलता के बदौलात तान्या आज इस कामयाबी के मुकाम पर पहुंची हैं| उन्होंने नाकामी को ही अपना सबक बनाया और लगातार मेहनत करती रही| फैशन कैरियर के प्रति शुरू से ही झुकाव रखने वाली तान्या पहले मिस बोकारो बनने में नाकामयाब रहीं फिर उसके बाद मिस झारखण्ड के लिए प्रयास किया, लेकिन उसमें भी उसे असफल रही। इसके बाद उनका हौसला डगमगाने के बजाय और बुलन्द हुआ। पूरी मेहनत व लगन के साथ उन्होंने तैयारी की और उसका परिणाम आज सबके सामने है।

One thought on “बोकारो की बेटी तान्या बनी ‘क्वीन ऑफ़ इंडिया 2019’

Leave a Reply