कोरोना कहर के कारण राखी के बाजार की रौनक हुई खत्म..

Festival

कोरोना के कारण बाजार की रौनक वैसे ही खत्म हो चुकी है ऊपर से सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए लोगों की आवाजाही भी कम है| इसकी वजह से पर्व-त्योहार भी फीकी पड़ती जा रही है| जहां पहले रक्षाबंधन के त्योहार से एक महीने पहले ही रंग-बिरंगी राखियों से बाजार सज जाते थे वहीं इस बार बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है| 3 अगस्त को रक्षाबंधन है लेकिन कहीं किसी तरह का उत्साह नहीं दिक रहा|

कोरोना के कारण बहने बाजार से राखी खरीद कर, उसे डाक-पोस्ट करने की जगह ऑनलाइन खरीददारी के जरिए भाईयों को राखी भेज रही हैं| इनलोगों का कहना है कि ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर राखियां उपलब्ध है जिसे आसानी से ऑनलाइन पेमेंट कर के भेजा जा सकता है| इन साइट्स पर मिठाई, रोली, चंदन आदि भी उपलब्ध है|

लेकिन इस सब के बीच पर दुकान लगाने वाले राखी विक्रेता निराश हैं| दुकानदारों का कहना है कि रक्षाबंधन में राखियों की अच्छी खासी डिमांड रहती थी तथा मुनाफा भी होता था| लेकिन इस वर्ष कोरोना के कहर ने पूरा व्यवसाय चौपट कर दिया है| देखा जाए तो 50 फीसदी से भी कम बिक्री हो रही है|बोकारो के व्यवसायियों के लिए कोलाकता से राखी की सप्लाई होती थी| लॉकडाउन से पहले जो ऑर्डर दिया गया था अब उसकी डिलवरी नहीं हो पा रही है|वहीं दुकानों पर ग्राहक भी कम आ रहे हैं|व्यवसायियों ने बताया कि हर बार रक्षाबंधन त्योहार के मौके पर हजारों लोगों को रोजगार मिलता था| लेकिन इस बार बाजार खत्म है|

Leave a Reply