कोरोना से जंग में पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय समेत सामने आए ये लोग, दिल से करें इन्हें सलाम..

COVID19, Social

बेरमो/बोकारो : लॉकडाउन को लेकर अधिकाँश व्यवसाय बंद हैं। बावजूद यहां के उद्यमी/समाजसेवी से लेकर कई सक्षम लोग भी कोरोना संकट से निपटने में प्रशासन के साथ खड़े हैं। कई लोगों ने जिला आपदा कोष में नकद राशि देकर मिशाल पेश किया है। इस कड़ी में गिरिडीह के पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय ने वैश्विक महामारी कोराना वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष में एक लाख रु दिये. वहीं इनके मंझले पुत्र विवेक कुमार पांडेय उर्फ रिशु ने 2 लाख का सहयोग किया है. और इनके दूसरे पुत्र विक्रम कुमार ने भी एक लाख रूपेय का दान दिया है. कुल मिलाकर पूर्व सांसद और पुत्रों ने 4 लाख का सहयोग प्रधानमंत्री राहत कोष में दिया है. यह राशि उन्होंने अपने निजी मद से दिया है.

श्री पांडेय जी के मंझले पुत्र कारोबारी है और इनके छोटे पुत्र टुंडी से भाजपा प्रत्याशी रह चुके है. वहीं, बड़े पुत्र डॉक्टर विकास कुमार पांडे ने बोकारो के चास स्थित केएम मेमोरियल को कोरोना महामारी के दौरान सेवा के लिए समर्पित करने की घोषणा की है. उनके इस कदम से बोकारो में कोरोना संदिग्ध लोगों को रखने में सहायता मिलेगी. बोकारो उपायुक्त मुकेश कुमार ने मुश्किल के इस वक्त में इन लोगों द्वारा दिए गए इन सहयोगों की प्रसंशा की है.

इसके साथ ही पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय प्रतिदिन अपने फुसरो स्थित आवास में राशन पैक कर अपने संसदीय क्षेत्र के विभिन्न भागों में गरीबों तक पहुंचाने का भी काम कर रहे हैं. श्री पांडेय ने इस हालात में काम कर रहे सभी चिकित्सकों, पुलिसकर्मियों, सफाई कर्मियों समेत अन्य मजदूरों की भरपूर सराहना कि है और कहा है कि जनता केंद्र और राज्य सरकार के निर्देश एवं सावधानियों का पालन अवश्य करे. कोरोना से लड़ने के लिए सरकार युद्ध स्तर पर तैयार है. केंद्र सरकार व राज्य सरकार की टीम इस कठिन चुनौती का सामना कर रही है. आम जनता को डर की जरूरत नहीं है, सिर्फ सचेत रहिए और कोरोना पर विजय पाइए.

आपको बता दें कि इसके अलावा भी कई लोग आपदा कोष में राशि का योगदान कर रहे हैं. मालती अपार्टमेंट, सेक्टर-6 के निदेशक वीरेंद्र कुमार नायक ने जिला आपदा कोष में 5 लाख का योगदान दिया है.

वहीं गुरू गोविंद सिंह एजुकेशनल सोसायटी ने छह लाख का दान दिया है. इससे पहले बोकारो स्टील ने भी 25 लाख की सहायता राशि दी थी. इसके अलावा कई ऐसे समाजसेवी लोग है जो जरूरतमंद लोगों तक राशन का सामान पहुंचा रहे हैं.

Leave a Reply