डीएवी सेक्टर-4 में तीन दिवसीय सेमिनार कम वर्कशॉप का दूसरा दिन संपन्न..

Education

डीएवी सेक्टर-4 में तीन दिवसीय सेमिनार कम वर्कशॉप का दूसरा दिन संपन्न हुआ। इस दौरान विभिन्न विद्यालयों से आए 400 शिक्षक- शिक्षिकाओं ने कुल 26 विषयों के सेमिनार कम वर्कशॉप में अपने-अपने विषयों में विचारों का आदान-प्रदान किया।

हिन्दी विषय के लिए प्राइमरी वक्ता के रूप में श्रीमती गीता ने शिक्षाप्रद लघु नाटिका पर बात की वहीं मिडिल वर्ग की वक्ता श्रीमती आशा तिवारी ने विषयों का अन्य विषयों से सह संबंधात्मक विश्लेषण दिया| गणित के प्राइमरी वर्ग में श्रीमती सुमन कुमारी ने बच्चे की भावनात्मक जरुरतों को समझने पर अपने विचार ऱखे वहीं मिडिल वर्ग के श्री सुभाष कुमार गणित में गतिविधियों पर बात की और सीनियर- श्री बी.के.पाण्डे ने त्रिकोणमिति पर चर्चा की|

समाजिक विज्ञान में प्राइमरी के विषय संक्षिप्त पर श्रीमती रुपम ने अपना वक्तव्य रखा वहीं मिडिल वर्ग में गर्म गतिविधियों और पुन र्पूजीकरण को लेकर श्रीमती सुधा श्रीवास्तव ने बात की| संगणक विषय के अंतर्गत प्राइमरी में श्री बी.के.सिंह ने मूल्यांकन और मूल्यांकन को समझने पर चर्चा की और सिनियर-विजय कुमार ने संचार कौशल पर | अर्थशास्त्र में श्रीमती ए.भटनागर ने जीएसटी पर विस्तृत चर्चा की| लेखाशास्त्र के लिए श्री उमेश कुमार ने स्त्रोत दस्तावेज और लेखा मानक पर विचार रखे|

कार्यशाला में संस्कृत विषय पर भी चर्चा हुई| श्री एन.के. शास्त्री ने संस्कृत व्याकरण की समस्या व उसके समाधान पर विचार रखे| इसके अलावा अंग्रेजी में प्राइमरी में स्ंक्षिप्त पर श्रीमती अर्चना व मिडिल में स्ंक्षिप्त-1 पर श्रीमती सविता सिंह ने बात की| सीनियर- श्री पी.कुमार ने अग्रेंजी में सुनने और लिखने की तकनीक पर चर्चा की|

इसी तरह भौतिक विज्ञान मिडिल के लिए श्रीमती जेबा प्रवीन ने भौतिकी में व्यावहारिक गतिविधियों तथा सीनियर- श्री एन. पी.सिंह ने कंरट के चुंबकीय प्रभाव पर विचार ऱखें| रसायन विज्ञान के तहत श्रीमती हिना नाज़ ने हाइड्रोकार्बन पर बात की तथा जीवविज्ञान हेतु श्री अनुपम दता ने प्रदर्शन और प्रयोग पर विचार रखे| संगीत विषय पर चर्चा करते हुए श्री आर.बी.पाठक ने अलंकार, स्वर और राग को कैसे सुधारें, इस पर बात की शारीरिक शिक्षा के लिए श्री एस.के.मिश्रा ने खेलकूद में सुरक्षा के बारे में बताया|

मौके पर विभिन्न डीएवी विद्यालयों के शिक्षक व शिक्षिकाएं उपस्थित थे। शिक्षिकाओं ने नृत्य की प्रस्तुति की। उक्त सेमिनार सह वर्कशॉप में सभी शिक्षक- शिक्षिकाओं ने काफी ज्ञान अर्जन किया।

Leave a Reply