बोकारो में मिला कोरोना का पॉजिटिव केस, 15 मार्च को बांग्लादेश से लौटा है दंपति..

Bokaro, COVID19

बोकारो में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया। यह मरीज एक महिला है, जो बोकारो के चंद्रपुरा की तेलो बस्ती की रहनेवाली है। बोकारो के उपायुक्त मुकेश कुमार ने इस महिला के संक्रमित होने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि महिला के साथ उसके पति और अन्य दो दंपती बांग्लादेश गए थे। इनकी ट्रैवेल हिस्ट्री को देखते हुए बोकारो प्रशासन की ओर से सभी छह लोगों को बोकारो के गुरु गोविंद इंजीनियरिंग स्कूल में क्वारेंटाइन किया गया था। साथ ही उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गये थे। इनमें से एक की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। फिलहाल उस महिला को बोकारो जनरल अस्पताल के कोविड-19 वार्ड में शिफ्ट कर इलाज शुरू कर दिया गया है।

बोकारो जेनरल अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण भी उपायुक्त तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा किया गया। निरीक्षण के समय डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी से जानकारी भी एकत्रित की एवं संक्रमित महिला का हालचाल भी जाना।

बता दें की इससे पहले झारखंड में दो कोरोना संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। रांची के हिंदपीढ़ी से मलेशिया की एक महिला राज्य की पहली कोरोना संक्रमित मरीज है। उसे 31 मार्च को रिम्स के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। दूसरा मरीज हजारीबाग के विष्णुगढ़ का है। वह आसनसोल से लौटने के बाद बीमार पड़ा। कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद उसे हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

स्थिति नियंत्रण में है..
बोकारो डीसी मुकेश कुमार ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है, पैनिक होने जैसी कोई बात नहीं है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम वहां काम कर रही है। महिला से संपर्क की हिस्ट्री के अनुसार विभाग काम कर रहा है। आवश्यकता पड़ने पर अन्य लोगों के सैंपल की भी जांच कराई जाएगी।

महिला के घर और आसपास के क्षेत्रों को सैनिटाइज करने का भी काम जारी..
डीसी मुकेश कुमार ने बताया कि उक्त महिला के घर और आसपास के क्षेत्रों को सैनिटाइज करने का भी काम चल रहा है। लोगों को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। फोगिंग गली मोहल्ले में किया गया है। लोग लॉकडाउन का पालन कर वैश्विक महामारी कोरोना को हराने में सरकार और जिला प्रशासन का सहयोग करें।

संक्रमित महिला के घर मे बच्चों को किया गया होम क्वारंटाइन..
तेलों स्थित संक्रमित महिला के घर पर उपस्थित बच्चों एवं उनके परिवार के कुछ सदस्यों को घर पर ही होम क्वारंटाइन में रखा गया है। चिकित्सीय दल तेलों बस्ती में रहेंगे मौजूद। सभी का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है।

घर पर पहुंचाई गई राशन, प्रशासन के देख रेख में है परिवार..
प्रशासन द्वारा पीड़िता के घर सूखा राशन उपलब्ध कराया गया है। सभी को घर के अंदर ही सुरक्षित रहने की सलाह दी गई है। घर के अंदर डिस्टेन्स मैंटेन करके रखने को कहा गया है। उपायुक्त ने बच्चों के लिए दूध तथा बिस्कुट उपलब्ध कराने का निदेश प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया है।

संक्रमित महिला के बारे में उपायुक्त ने जुटाई जानकारी, तेलों आने के बाद कहाँ और किन लोगों से रूबरू हुई..
उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक समेत जिला के तमाम आला अधिकारियों ने आज तेलों गांव का भ्रमण किया गया जहाँ संक्रमित महिला के घर पर उपस्थित व्यक्तियों से बातचीत किया गया। समाज के प्रबुद्ध जनों से भी उपायुक्त ने वार्ता की तथा महिला के बारे में और भी अधिक जानकारियां जुटाई।

उपायुक्त ने गांव वालों से की अपील, जांच में सहयोग करें ताकि समाज मे और कोई संक्रमण न फैल पाए..
उपायुक्त ने ग्रामीणों से अपील किया की जांच में प्रशासन का सहयोग करें। कोई भी व्यक्ति गांव से अन्यत्र कही न जाय। सभी कोई अपना अपना जांच कराएं ताकि समय पूर्व सचेत होकर समाज को बचाया जा सके। कोरोना संक्रमण को हराने में सहयोग करें।

तेलों में प्रशासन एवं स्वास्थ्य टीम मौजूद, स्थिति पर नियंत्रण एवं नजर बनाए हुए है..
चंद्रपुरा प्रखंड के तेलों बस्ती में प्रशासन एवं चिकित्सीय टीम को स्थिति पर नियंत्रण बनाये हुए है। सभी को अपने अपने घरों में रहने की सलाह दी गई है। सूखा राशन उपलब्ध कराया जा रहा है। लोगों को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। लोग लॉक डाउन का पालन कर वैश्विक महामारी कोरोना को हराने में सरकार और जिला प्रशासन का सहयोग करें।

इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्रीमती सुजाता कुमारी बीणापानी, अपर समाहर्त्ता श्री विजय कुमार गुप्ता, डीपीएलआर श्री पशुपतिनाथ मिश्रा, सिविल सर्जन डॉ अशोक कुमार पाठक, अनुमण्डल पदाधिकारी बेरमो तेनुघाट श्री प्रेमरंजन, अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply