थैलेसीमिया से पीड़ित अरविंद के परिवार के इलाज के लिए करें सहयोग, आर्थिक मदद के साथ करें रक्तदान..

Social, write-up

बोकारो के माराफारी कैंप-1 में अरविंद कुमार का एक छोटा से परिवार रहता है, लेकिन इस परिवार के साभी सदस्य थैलेसीमिया रोग से ग्रसित है| अरविंद की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं कि वो इलाज करवा सकें| अरविंद, उनकी पत्नी व दो नन्हें बेटे थैलेसीमिया से पीड़ित हैं| इसकी वजह से उन्हें हर 21 दिन में ब्लड की जरूरत पड़ती है और ऐसा ना होने पर उनकी तबीयत बिगड़ने लगती है|

इनके परिवार में चार मरीज हैं, लेकिन एक पीड़ित के इलाज में करीब 12 लाख का खर्च आएगा| अरविंद के परिवार का आय श्रोत रोजाना होने वाली पूजा-पाठ से होता है|अरविंद की 60 वर्षीय मां जानकी देवी चारों तरफ मदद की गुहार लगा रही हैं| इसी क्रम में अरविंद ने अपने परिवार को बचाने के लिए बोकारो अपडेट्स के जरिए हम सभी से मदद मांग रहे हैं|

जानकी देवी ने बताया कि अरविंद की पत्नी सुलेखा को शादी के पहले से ही थैलेसीमिया था|शादी के बाद अरविंद और उनके दो बेटों को भी थैलेसीमिया हो गया| इनमें एक 6 साल का आनंद है व दूसरा 4 साल का अक्षय|ये लोग इलाज के लिए देश के बड़े-बड़े से अस्पतालों में गये जिसमें दिल्ली का एम्स अस्पताल भी शामिल है| एम्स में डॉक्टरों ने एक बेटे के इलाज के लिए 12 लाख रूपये का खर्च बताया था यानि दोनों बेटों का मिलाकर 24 लाख| इसके साथ ही 18 सितंबर 2017 को बोन मैरो ट्रांसप्लांट करने का समय दिया था| ये बोन मैरो अरविंद की छोटी बेटी अचला के नाभी के नाल से लिया जाना है जो बेंगलुरू और दिल्ली के बैंक में संरक्षित कर रखा है तथा इसमें 60हजार रूपये खर्च हो रहा है|

हालांकि बोकारो विधायक बिरंची नारायण की मदद से अरविंद नई दिल्ली पूर्वी के सांसद मनोज तिवारी के पास मदद के लिए पहुंचे थे| उन्होंने एक लिखित पत्र के जरिए अरविंद के बच्चों के इलाज के लिए एम्स के सीनियर डॉक्टर से सिफारिश की थी जिसके परिणाम स्वरूप इलाज का खर्च 24 लाख की जगह 12 लाख कर दिया गया| लेकिन 12 लाख भी जुटाना अरविंद औऱ उसके परिवार के लिए एक जटिल समस्या है|

दिक्कत सिर्फ पैसों की ही नहीं है| थैलेसिमीया रोग में खून भी आवश्यकता होती है, लेकिन कई बार इनलोगों को पर्याप्त मात्रा में खून नहीं मिल पाता| अरविंद और उनकी पत्नी बेटों को पर्याप्त खून चढ़वाने के लिए खुद दो-तीन महीने में एक बार खून चढ़वाते हैं| जबकि इन सब की हालत ऐसी है कि 21-21 दिन बाद अगर खून ना मिले तो इनकी तबीयत बिगड़ने लगती है|

ऐसे में अरविंद अपने बेटों के इलाज के लिए मदद की गुहार लगा रहे हैं| वो सभी से इलाज के लिए यथा संभव कुछ योगदान करने का आग्रह कर रहे हैं| हम सब को उनकी मदद के लिए आगे आना चाहिए तथा आर्थिक सहयोग के साथ-साथ उन्हें ब्लड भी मुहैया करा सकता हैं| सहायता राशि आप अरविंद के खाते में सीधा भेज सकते हैं और वहीं रक्तदान करने के लिए उन्हें फोन पर संपर्क किया जा सकता है|

बैंक खाता और फोन नंबर नीचे है:
Account number/ खाता संख्या: 20121892856
Bank Branch / बैंक शाखा: SBI Chas, Court Area
IFSC code: 0006652
Mobile number/ मोबाइल नंबर: 7870767422 / 9534942145 / 08750249505 (दिल्ली)

Leave a Reply