अवैध कनेक्शन से आम लोग परेशान, बिजली विभाग को हो रहा करोड़ो का नुकसान..

Bokaro, News, write-up

बोकारो : कभी 24 घंटे की बिजली सप्लाई करने वाला शहर आज बिजली संकट झेल रहा है. इसका एक प्रमुख कारण बिजली का अवैध कनेक्शन भी हैं. बोकारो इस्पात संयंत्र में अवैध कनेक्शन की भरमार हैं. इस कारण बीएसएल को हर महिने करोड़ो का नुकसान हो रहा है. वहीं आम जनता पर भी इसका सीधा असर पड़ रहा हैं.

आपको बता दें कि अवैध कनेक्शन की वजह से जिसे बिजली पहुंचनी चाहिए उन्हें महंगे दाम पर उपलब्ध हो रहा है. वैध क्वार्टरधारियों पर बिजली बिल का भार बढ़ रहा हैं. पिछले ही महिने उनके बिजली दर में बढ़ावा किया गया था.

हालांकि बिजली चोरी के लिए आवश्यक कारवाई प्रबंधन द्वारा की गई है. अवैध कनेक्शनों को आए दिन अभियान चला कर काटा जा रहा हैं. ओवर हेड तार को भी केबल के रूप में बदला गया हैं. लेकिन इन अभियानों की रफ्तार धीमी पड़ जाना ही इसका सबसे बड़ा कारण हैं.

प्रति वर्ष सिर्फ 10 किमी ही केवलिंग का काम हो रहा है. वहीं अवैध कनेक्शनों को काटने के बाद प्रबंधन शांत बैठ जाता है. पिछले दो वर्षो में सिर्फ दस किमी ही केबलिंग का हुआ हैं. विभाग की मानें तो अभी हजारों किलोमीटर ओपेन वायर को बदलना हैं. लेकिन काम की गति को देखकर तो लग रहा है मानों एक जमाना गुजर जाएगा स्थिति सुधारते-सुधारते.

2019 में 500 से अधिक अवैध कनेक्शनों को काटा गया. लेकिन वर्त्तमान समय में स्थिति जस की तस बन गयी हैं. विभिन्न सेक्टर की गलियों में तार का जंजाल देखने को मिलता हैं. सेक्टर के बाहर भर्रा, उकरीद मोड़, रानीपोखर समेत सेक्टर 01, 09, 12 से सटे विभिन्न मुहल्लों में अवैध कनेक्शनधारी देखने को मिल जाएंगे. बिजली विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी की मानें तो काम की गती ठीक है. काम जारी है, कुछ मुहल्लों में ओवरहेडिंग केवल लगाने के दौरान लोगों से झड़प भी हो जाती हैं. अवैध कनेक्शनधारी की संख्या ज्यादा हैं. धीरे-धीरे प्रबंधन मैनेज करके अपना काम कर रहा है. उनका मानना है कि ओवरहेड केबलिंग के जरीये कम से कम 10 प्रतीशत बिजली की बचत होगी.

Leave a Reply