अब ममता झा द्वारा बेहतरीन मेकअप और ब्यूटी ट्रीटमेंट के लिए पहुंचे Studio A1

Bokaro, Pride Bokaro

ब्यूटी एंड केयर में आज ममता झा एक जाना-माना नाम हैं जिन्हें पूरे झारखंड में बेहतरीन मेकअप आर्टिस्ट के खिताब से भी नवाजा जा चुका है| बीते साल बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा माधुरी दीक्षित ने ममता झा को झारखंड की बेस्ट मेकअप आर्टिस्ट से पुरस्कृत किया था| अपनी इस सफलता की कहानी को और आगे बढ़ाते हुए आगे और नए मुकाम हासिल कर रही हैं| इसी कड़ी में उन्होंने अपने ब्यूटी सैलून एंड स्पा को भी नई पहचान दी है और स्टूडियो 11 को बदल कर स्टूडियो A1 का नाम दिया है| यानि कि अब अगर आपको किसी पार्टी, फंक्शन या शादी के मौके पर ममता झा से मेकअप करवाना है तो आपको स्टूडियो A1 आना होगा|

सबसे बड़ी बात ये है कि ममता ने अपनी खुद की फ्रेंचाइजी शुरू की है जिसके तहत अलग-अलग शहरों में उनके अब तक तीन और स्टूडियो शुरू हो रहे हैं| जयपुर, कटक और भुवनेश्वर में वहां के लोग स्टूडियो A1 की आधुनिक सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं| आने वाले समय में पांच औऱ शहरों में भी स्टूडियो A1 की फ्रेचांइजी के तौर पर सेवा मिल सकती है|

स्टूडियो A1 की खास बात ये है कि यहां तमाम तरह की आधुनिक ब्यूटी तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है| बड़े शहरों की तरह यहां लेजर, नेल एक्सटेंशन औल आई लैशेस एक्सटेंशन जैसी सुविधाओं का लाभ उठाया जा सकता है| आपको बता दें कि स्टूडियो A1 राज्य का पहला ब्यूटी सैलून है जहां विभिन्न तकनीकों से नेल एक्सटेंशन के जरिए आप अपने नाखूनों को सुंदर रूप दे सकती हैं| बोकारो शहर में ये एक ऐसा ब्यूटी स्टूडियो है जहां आपको हर नई तकनीक देखने को मिलेगी| शादी-ब्याह के मौके पर दुल्हन को तैयार करने के लिए उच्चत्तम सेवा दी जाती है|यहीं वजह है कि आज के समय में ज्यादातर दुल्हन मेकअप के लिए ममता झा के पास आती हैं जिन्हें वो उनेके मनचाहे रूप में तैयार करती हैं|

ग्लोबल एक्सिलेंस अवार्ड 2019 की विजेता रह चुकी ममता झा, बॉलीवुड हिरोइन अमृता राव तक का मेकअप कर चुकी हैं| जयपुर में आयोजित एक ईवेंट के दौरान ममता को खासतौर पर मेकअप आर्टिस्ट के तौर पर बुलाया गया था| उन्हें अकसर ऐसे अवसर आते रहते हैं जिसे वो वो अपनी सहूलियत के हिसाब से पूरा करते रहती हैं|

ममता उनलोगों को भी बढ़ावा देती हैं जो इस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं| इसके लिए वो एकेडमी भी चलाती हैं जहां मेकअप स्पेलिस्ट और अन्य ब्यूटी ट्रीटमेंट की क्लास दी जाती है| उनके पास दूसरे शहरों से लोग मेकअप स्पेलिस्ट का कोर्स करने आते हैं|

ममता के लिए स्टूडियो A1 तक का सफर आसान नहीं था| बड़े संघर्ष और सामाजिक दबाव से निकल कर आज वो इस मुकाम तक पहुंचीं हैं| ममता ने बताया कि आज से ग्यारह साल पहले जब उन्होंने बतौर ब्यूटिशियन अपना करियर शुरू करने की बात की तो कई लोगों ने विरोध जताया| परिवार के लोगों के कहा कि ये काम तो बहुत छोटा है और पंडित जाति से होने के नाते ये काम उन्हें शोभा नहीं देगा| हालांकि ममता के पिता और पति दोनों ने ही उनका साथ दिया और उनके करियर को आगे बढ़ाने में हिम्मत दी| उनके पिता ने कहा कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता बस इच्छाशक्ति और रूचि होनी चाहिए| इसके बाद छोटे से पार्लर से शुरूआत कर उन्होंने आज राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई|

Leave a Reply